कभी-कभी

20 02 2007

कभी-कभी

क्यों होता है ऐसा कभी-कभी
कि कुछ सोचना भी भारी लगे
और सोचे बिना रहा न जाए!

क्यों होता है ऐसा कभी-कभी
लगे ऐसा मानों हाथ-पैरों में जान न हो!

क्यों होता है ऐसा कभी-कभी
कि व्यर्थ सा लगे सब कुछ!

क्यों होता है ऐसा कभी-कभी
कि मन लगे उदास-उदास!

क्यों होता है ऐसा कभी-कभी
कि आंख भर आए अपने-आप बिना कारण!

क्यों होता है ऐसा कभी-कभी
कि तमन्ना भी नहीं रहती बाकी!

क्यों होता है ऐसा कभी-कभी
खाली सा हो जाता है दिमाग भी!

Advertisements




मैत्री

20 02 2007

मैत्री

मित्रता
करोगे क्या तुम मुझसे
कहते हो
यदि तुम हां
तो चलो!
चलें मिलकर
हम पार क्षितिज के!
स्वीकार है यदि तुम्हें
मेरी मित्रता तो पाओगे सदा तुम
मुझे अपने पास,अपने साथ
चाहे सुख हो या दुख।
साथ दुंगा मैं तुम्हारा
रोने में भी
लेकिन करना होगा वादा
तुम्हें एक
रोने के बाद तुम हंसोगे भी।
साथ दुंगा मैं तुम्हारा हंसने में भी।
मैत्री इसे ही कहते हैं
मित्रता करोगे क्या तुम मुझसे
कहते हो यदि तुम हां
तो चलो………





कुछ विचार “राम” पर

19 02 2007

एक

राम!
तुम भगवान न थे
तुम तो थे,प्रतीक मात्र
और हो!
दीन-हीन जनों के संबल का
विश्वास का!
उस धर्म-मर्यादित आचरण के
जिसके कारण तुमने भोगा
चौदह सालों का वनवास
और
उपहार मिला तुम्हे
सीता विछोह का

राम!
तुम भगवान न थे
तुम तो थे प्रतीक मात्र
और हो
पुत्र धर्म के
प्रजा के पालनहार सत्यनिष्ठ राजा के!

कौन कहता है तुम भगवान थे
तुम तो इंसान ही थे
तभी तो पूजा था तुमने शिव को!
ये और बात है कि तुम “आदर्श” थे
तुम्हारे कर्मों ने तुम्हे हमसे ऊंचा उठा दिया
इतना ऊंचा कि
तुम भगवान के समकक्ष हो गए
पूजे जाने लगे
भगवान कहलाने लगे
राम!
तुम इंसान ही क्यों न रहे!

———————————————————————————————————-
दो

राम!
तुम्हारा नाम
लक्ष्मण या कुछ और होता
तो क्या
तुम वह सब ना करते
जो तुमने किया!

———————————————————————————————————–

तीन

राम!
कभी-कभी
तो लगता है
तुम भगवान ही थे
इंसान नही
क्योंकि
जिस सीता के लिए
तुमने लंका का नाश किया
उसे!
उसे ही तुमने त्याग दिया
इंसान तो ऐसा नहीं कर सकता!





युवा कवि नीलेश “नील”

18 02 2007

रायपुर में जन्में, भोपाल से मैकेनिकल इंजीनीयरिंग करने वाले युवा कवि नीलेश  वर्तमान में लंदन में है। इनके बारे मे बशीर बद्र साहब कहते हैं   “नीलेश “नील” सच्ची कविताओं की नई आवाज़ है।  इनकी कविताएं अपनी आहंग और मौसीक़ी (Rhythm and Music) के लिहाज़ से मुझे बादलों का सफ़र लगीं।”

बेआबरु

तुझे लूट के क्या हासिल करुं मैं
खुद जो लूट चुके तुझसे
हमें प्याला अपना ही दे दे
मिट जायेंगे तुझपे
उस रोज मैं फ़रिश्ता था
उस लम्हां तू फितरत हुई
अब हर दिन शैतान का-इंसान को
फ़र्क नहीं मिलता अपने खत्म होने तक………

——————————————————————————————-

जुमेराती
( भोपाल शहर के नाम )

ये सड़क नहीं
काबिले-जन्नत है
जुमे की नमाज़ का मौसम है
बुजूर्गों की जमात है
बच्चों की ख़्वाहिश है
माहौल की नुमाईश है

शहर (भोपाल) का आशियाना यहां
ये सड़क नहीं
जन्नत की मुस्कान है
मुकद्दर का आईना है
मस्जिद की राह है
ईद की मोहब्बत है यहां
बेखौफ़ हर अंदाज़
की फ़ितरतें हैं यहां
यही है वो
चौदहवीं की  राह
जुमेराती-जुमेराती-जुमेराती

 

 

(नीलेश “नील” के प्रथम हिंदी काव्य,ग़ज़ल,नज़्म और शे’र संग्रह “चुभन” से साभार)





कब आओगे श्याम

16 02 2007

कब आओगे श्याम  

हे श्याम
तुम कब आओगे,
प्रतीक्षारत है मेरा मन।

बीते कितने ही वर्ष,
बीती न जाने कितनी सदियां।
सूख गई कई नदियां,
पर तुम न आए।
आखिर तुम कब आओगे
जाने तुम आओगे भी या नहीं।

मनमोहन
कहते हो तुम
मैं तुम में ही बसती हूं
इसका अर्थ यह तो नहीं
कि हम मिले ही नहीं।

कहता है मेरा ह्र्दय,
आओगे तुम अवश्य ही!

श्याम!
तुम्हारी बंशी की
तान ही तो  हमारी प्राण है।
कब गुंजेगी यहां फ़िर से
तुम्हारी बंशी की मीठी-मनमोहिनी तान!

सांवरे!
कब तक करवाओगे युं प्रतीक्षा,
कब तक चलेगी यह अग्निपरीक्षा!

आ जाओ अब, न केवल थके है नैन
बल्कि थक गया है मन भी
श्याम!
कब आओगे तुम।





आस-पास

16 02 2007

आस-पास

घट रहा है, आस-पास मेरे
ऐसा कुछ
जिसे मैं देख तो रहा हूं,
बस! व्यक्त नहीं कर पाता।
ऐसा नहीं है कि
मन मे विचार उठते नहीं है।
बस! कलम रुक जाती है,
चलना ही नहीं चाहती।
घट रहा है, आस-पास
अपरिचितों के साथ,
मेरे अपनों के साथ,
मेरे साथ,
कुछ ऐसा
करना चाहता हूं मैं
विरोध जिसका।
लेकिन
शक्ति कोई
अनजानी-अजनबी सी
पकड़ लेती है गला मेरा
कि नहीं
आवाज़ ना निकले
मुंह से,
कलम ना चले
कागज़ पर
घट रहा यही सब कुछ
आस-पास मेरे





कौन हो तुम

13 02 2007

कौन हो तुम..

शीशे में एक अक्स सा लहराया था,
गौर से देखा तो हमारी परछाई नहीं,तस्वीर थी तेरी ।

राह में जब ठंडी हवा के झोंके आए चेहरे पर,
तो लगा,घनी ज़ुल्फ़ों की छांव हो तेरी ।

अधखुली आंखो ने देखी जब चांदनी
महसूस हुआ ये मुस्कान है तेरी ।

दिल मेरा अक्सर अपने से करता है जब बातें,
कान सुनने लगते हैं आवाज़ तेरी ।

धूप में निकलता हुं जब भी,
नज़रें ढुंढने लगती है परछाई तेरी